सुरक्षित बचपन और सुरक्षित भारत के लिए आज से यात्रा पर निकलेंगे कैलाश सत्यार्थी

नई दिल्ली : बाल यौन शोषण के खिलाफ सख्त कानून बनाने और लोगों को इस बारे में जागरूक करने के लिए बाल अधिकार कार्यकर्ता और नोबल पुरस्कार विजेता कैलाश सत्यार्थी आज से भारत यात्रा पर निकलेंगे। सत्यार्थी का मानना है कि बच्चे यौन हिंसा के शिकार न बनें इसके लिए समाज की मानसिकता बदलनी भी जरूरी है साथ ही स्कूलों में बच्चों को सेक्स एजुकेशन दी जानी चाहिए।

– कैलाश सत्यार्थी ने बताया कि भारत यात्रा जहां से गुजरेगी वहां लोगों को शपथ दिलाएंगे। ऑन लाइन भी लोग शपथ लेंगे। करीब 1 करोड़ लोग सुरक्षित बचपन और सुरक्षित भारत की शपथ लेंगे। 

– विभिन्न धर्मों के धर्म गुरू भी एक साथ मिलकर स्कूलों और मोहल्लों में जाएंगे और यौन शोषण के खिलाफ उन्हें जागरूक करेंगे। उन्होंने कहा कि भारत यात्रा बच्चों के यौन शोषण के खिलाफ धर्म युद्ध है और इसके जरिए हम जनआंदोलन की शुरूआत करेंगे। राजनीतिक उदासीनता के खिलाफ भी आवाज उठाई जाएगी। 

– उन्होंने कहा कि जब जनता आवाज उठाएगी तो नेताओं को भी वह मुद्दे उठाने को मजबूर होना ही पड़ेगा। बाल यौन शोषण को लेकर जो पॉक्सो जैसे कानून हैं भी तो उनका ठीक से पालन नहीं हो रहा है। पिछले साल इसके तहत 15,000 केस रजिस्टर हुए जिनमें महज 4 प्रतिशत को सजा मिल पाई है, 6 प्रतिशत आरोपी बरी हो गए और 90 प्रतिशत केस अभी भी लंबित हैं। कई राज्यों में तो यह स्थिति है कि अगर आज के बाद भी एक भी यौन उत्पीड़न का मामला न हो तो पुराने मामले निपटाने में ही 10 से लेकर 40 साल का वक्त लग जाएगा।