कश्मीर घाटी में सामान्य जनजीवन बहाल

कश्मीर घाटी में लगातार तीन दिन से लगे कर्फ्यू एवं प्रतिबंध और अलगाववादियों द्वारा आहूत बंद के बाद बुधवार को घाटी में सामान्य जनजीवन बहाल हो गया।  श्रीनगर और अन्य जिलों में छात्रों का विरोध प्रदर्शन रोकने के लिए उच्च माध्यमिक विद्यालयों और कॉलेजों को बंद रखा गया है, लेकिन अधिकांश रूप से सामान्य जनजीवन बहाल हो गया है।

कश्मीर घाटी में सामान्य जनजीवन बहाल

श्रीनगर में बुधवार सुबह दुकानों, सार्वजनिक परिवहन, बैंक, डाकघरों और सरकारी कार्यालयों ने सामान्य ढंग से कामकाज करना शुरू कर दिया।  टैक्सी चालक पर्यटकों को पहलगाम, सोनमर्ग, गुलमर्ग और अन्य जगहों पर बुधवार सुबह से ले जाने लगे हैं।प्रशासन ने शहर में कहीं भी कर्फ्यू या प्रतिबंध नहीं लगाया है। अलगाववादियों ने विरोध का कोई नया कार्यक्रम जारी नहीं किया है। अलगाववादियों ने मंगलवार को त्राल में मार्च से पहले दो दिन यानी रविवार और सोमवार को पूर्ण बंद का आह्वान किया था।

त्राल के सैमोह में सुरक्षाबलों की कार्रवाई में हिजबुल मुजाहिदीन के कमांडर सबजार बट और उसके साथ फैजान अहमद के मारे जाने के बाद चौथे दिन त्राल में दोनों को दफनाया गया था। पिछले साल आठ जुलाई को सुरक्षाबलों द्वारा हिजबुल कमांडर बुरहान वानी को मार गिराए जाने के बाद सबजार बट ने हिजबुल की कमान संभाली थी।